HomeManoj MuntashirBest Manoj Muntashir Shayari | मनोज मुंतशिर शायरी 2024

Best Manoj Muntashir Shayari | मनोज मुंतशिर शायरी 2024

Manoj Muntashir Shayari: मनोज मुंतशिर नाम आज किसी तारीफ का मोहताज़ नहीं है, वो फ़िल्मी दुनिया के मशहूर गीतकार,शायर और टेलीविज़न के एक महान पटकथा लेखक हैं.
मित्रों यहाँ पर हम Manoj Muntashir Shayari का एक लाजवाब संग्रह प्रस्तुत कर रहे हैं जिसे आप अपने मित्रों और परिजनों के साथ सभी Social Media Platforms पर शेयर कर सकते हैं, आशा है आप सभी को ये संग्रह बहुत पसंद आएगा.

Manoj Muntashir Shayari

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari iamge

न दिन है न रात है,
कोई तन्हा है न साथ है,
जैसी आँखें वैसी दुनिया
बस इतनी सी बात है.

Na din hai na raat hai,
Koi tanha hai na
saath hai,Jaisi aankhen
vaisi duniya Bas
itni si baat hai.

आज आग है कल
हम पानी हो जायेंगे,
आखिर में सब लोग
कहानी हो जायेंगे.

Aaj aag hai kal hum
pani ho jayenge,
Aakhir me sab log
kahani ho jayenge.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image

अँधेरी रात नहीं लेती
नाम ढलने का
यही तो वक़्त है
सूरज तेरे निकलने का.

Andheri raat nahi leti
naam dhalne ka
Yahi to waqt hai suraj
tere nikalne ka

कभी खुद्दारी की सरहद
ही नहीं लांघते हैं,
भीख तो छोड़िये
हम हक़ भी नहीं मांगते हैं.

Kabhi khuddari ki
sarhad nahi langhte
hain,Bheekh to chhodiye
hum haq bhi
nahi mangte hain.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari images

खींच ले जाती हैं मुझको
तेरे ही घर की तरफ,
शहर की सारी सड़कें
जैसे पागल हो गईं.

Khinch le jati hai mujhko
Tere hi ghar ki taraf,
Shara ki saari sadken
jaise pagal ho gayi.

जो होश जरा सा बाकि है,
लगता है खोने वाला हूँ.
अफवाह उडी है यारों में,
मैं पागल होने वाला हूँ.

Jo hosh jara sa baki hai,
Lagta hai khone wala hun.
Afwah udi hai yaaron me,
Main pagal hone wala hun.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image

लपक के जलते थे,
बिलकुल शरारे जैसे थे
नये नये थे तो
हम भी तुम्हारे जैसे थे.

Lapak ke jalte the,
Bilkul sharare
jaise the,Naye naye
the to hum
bhi tumhare jaise the.

मैं वो बुलबुल, मोहब्बत है
जिसे तेरी सलाख़ों से,
तू पिंजरा खोल भी देगा
तो मेरा उड़ना मुश्किल है.

Main wo bulbul,
mohabbat hai jise
teri salakhon se,
Tu pinjra khol bhi
dega to mera
udna mushqil hai.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image

अच्छा लिखने के लिए इश्क़
हो जाना जरुरी है,
बहुत अच्छा लिखने के लिए उस
इश्क़ का खो जाना जरुरी है.

Achha likhne ke liye ishq
Ho jana jaruri hai,
Bahut achha likhne ke liye us
Ishq ka kho jana jaruri hai.

बयान सच के तराज़ू में तोलता हूँ मैं,
तेरी ख़ुशी के लिए थोड़ी बोलता हूँ मैं.

Bayan sach ke taraju
me tolta hun main
Teri khushi ke liye
thodi bolta hun main.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image download

तू किसी की भी रहे, तेरी याद मेरी है,
अमीर हूँ मैं कि ये जायदाद मेरी है.

Tu kisi ki bhi rahe,
teri yaad meri hai,
Ameer hun main ki
ye jaydad meri hai.

दिल पर ज़ख्म खाते हैं
और मुस्कुराते हैं
हम वो हैं जो शीशों को
टूटना सिखाते हैं

Dil par jakhm
khate hain aur
muskurate hain,
Hum woh hain jo
sheeshon ko tutna
sikhate hain.

manoj muntashir shayari
best manoj muntashir shayari

हमें प्यार अब दुबारा होना
बहुत है मुश्किल,
छोड़ा कहाँ है तुमने
हमको किसी के काबिल.

Hame pyar ab dubara hona
bahut hai mushqil,
Chhoda kahan hai tumne
hamko kisi ke qabil.

कल और आज के बीच
दुनिया बदल गयी
अब आंसू बहाने की मोहलत कहाँ,
इश्क़ में तड़पने की फुरसत कहाँ
लेकिन आज भी चाय की हर प्याली
तेरा जिक्र करती है
ऐ मेरी दोस्तों, मेरे दिल की तड़प,
मेरी अधूरी आरज़ू
तेरे हिस्से की शाम
आज भी खाली गुज़रती है.

Kal aur aaj ke beech
duniya badal gayi.
Ab aansoo bahane
ki mohlat kahan.
Ishq me tadapne
ki fursat kahan..
Lekin aaj bhi chay ki
har pyali tera
zikra karti hai….
Ae meri dost,
mere dil ki tadap,
meri adhoori Aarzu,
Tere hisse ki shaam
aaj bhi khali guzarti hai.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari in hindi

तुम अपनी आँखों को हँसना सिखाओ,
मेरी आँखों में बादल रहने दो न
मुबारक़ हो तुम्हे ये दुनियादारी,
मैं पागल हूँ तो पागल रहने दो न.

Tum apni aankhon
ko hasna sikhao,
Meri aankhon mein
badal rahne do na
Mubaraq ho tumhe
ye duniyadari,
Main pagal hun toh
pagal rahne do na.

हवा में घर बनाया था कभी जो,
उसकी के सामने बेबस पड़ा हूँ…
तुम्हारे भीं दरीचा कौन खोले
कई जन्मो से मैं बाहर खड़ा हूँ…!!!

Hawa me ghar
banaya tha kabhi jo,
Uske samne
bebas pada hun…
Tumhare bhi daricha
koun khole
Kai jano se main
bahar khada hun…!!!

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image

ये गलत बात है कि लोग यहाँ रहते है,
मेरी बस्ती में अब सिर्फ मकाँ रहते है,
हम दिवानो का पता पूछना तो पूछना यूँ
जो कही के नही रहते वो कहाँ रहते है.

Ye galat baat hai ki log
yahan rahte hain,
Meri basti mein ab sirf
Makan rahte hain,
Hum deewano ka pata
puchhna toh puchhna yun
Jo kahin ke nahi rahte
wo kahan rahte hain.

जूते फटे पहनके आकाश पर चढ़े थे,
सपने हमारे हरदम औकात से बड़े थे,
सिर काटने से पहले दुश्मन ने सिर झुकाया
जब देखा हम निहत्थे मैदान में खड़े थे.

Joote fate pahan ke aakash
Par chadhe the,Sapne hamare
hardam aukat se bade the,
Sir kaatne se pahle dushman
ne sir jhukaya Jab dekha ham
nihathhe maidan mein khade the.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image download

मैं तुझसे प्यार नहीं करता
पर कोई ऐसी शाम नहीं जब
आवारा सड़कों पर मैं तेरा
इंतज़ार नहीं करता
बेमक़सद-सा मैं गलियों में
मारा-मारा फिरता हूं
जिन रास्तों से वाकिफ़ हूं,
वहीं ठोकर खा के गिरता हूं

Main tujhse pyar nahin karta
par aisi koi sham nahin jab
aawara sadkon par main tera
intzaar nahin karta
Bemaksad-sa main galiyon mein
mara mara firta hun
jin raaston se waqif hun
wahin thokar khake girta hun.

मैंने लहू के कतरे मिटटी में बोये हैं
खुशबू जहाँ भी है मेरी कर्जदार है,
ऐ वक़्त होगा एक दिन तेरा मेरा हिसाब
मेरी जीत जाने कब से तुझ पे उधार है.

Maine lahoo ke katre
mitti mein boye hain
Khushboo jahan bhi
hai meri karzdar hai,
Ae waqt hoga ek din
tera mera hisab
Meri jeet jane kab
se tujh pe udhaar hai

manoj muntashir shayari
best manoj muntashir shayari

अभी हाथ हाथों से छूटे नहीं हैं,
अभी रोक लो तो ठहर जाऊँगा मैं,
कहाँ ढूंढ़ोगे फिर, कहाँ फिर मिलूंगा,
अगर वक्त बन के गुजर जाऊंगा मैं.

Abhi haath haathon
se chhoote nahi hain,
Abhi rok lo to
thahar jauga main,
Kahan dhoondoe fir,
kahan fir milunga,
Agar waqt ban ke
gizar jaunga main.

सीने के उस कोने में भी तू है,
जहाँ दिल होता है…
इतना ज्यादा कोई किसी के
अंदर दाखिल होता है..??
भागता फिरता हूँ मैं तुझसे,
रोज़ सुबह से शाम तलक…
फिर भी मेरी सांस-सांस में,
तू ही शामिल होता है.

‘Seene ke uss kone
me bhi tu hai,
jahan dil hota hai.. ‬
‪Itna zyada koi kisi ke
andar dakhil hota hai..???‬
‪Bhaagta phirta
hoon main tujhse,
roz subah se shaam talak…‬
‪Phir bhi meri saas-saas mein,
tu hi shamil hota hai.’

manoj muntashir shayari
best manoj muntashir shayari images

साफ दिखने लगेगी ये दुनिया
ऐनक आंखो से उतर जाएगी
किसी बच्चे को खेलते देखो
आंखो की रोशनी बढ़ जाएगी.

Saaf dikhne lagegi ye duniya
Enak aankhon se utar jayegi
Kisi bachhe ko khelte dekho
Aankhon ki roushani badh jayegi.

मैंने जिस पल तुझको सोचा ना याद किया,
वक़्त तो गुज़रा मगर मैंने वो पल ना जिया.

Maine jis pal tujhko socha
na yaad kiya,Waqt to guzra
magar maine wo pal na jiya.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari image download

सवाल एक छोटा सा था,
जिसके पीछे पूरी ज़िंदगी बर्बाद कर ली,
भुलाऊं किस तरह वो दोनों आंखें,
किताबों की तरह जो याद कर ली..!!

Sawal ek chhota sa tha,Jiske
pichhe puri zindagi barbad kar
li,bhulaun kis tarah wo do
aankhen kitabon ki tarah jo
yaad kar li..!!

हिसाब लगाकर देख लो,
दुनिया के हर रिश्ते में,
कुछ अधुरा आधा निकलेगा,
एक माँ का प्यार है जो दूसरों से
नौ महीने ज्यादा निकलेगा..!!

Hisab lagakar dekh lo,Duniya
ke har rishte mein,Kuchh adhura
aadha niklega,Ek maa ka pyar hai
jo dusro se nou
mahine jyada niklega..!!!

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari images

तुम आज भी मेरी नहीं हो,
कल भी नहीं थी,
अफवाह है कि किस्मतें
एक दिन बदलती हैं.

Tum aaj bhi meri nahin ho,
Kal bhi nahin thi,
Afwah hai ki kismatein ek
din badalti hain.

मैं अपनी गलियों से बिछड़ा,
मुझे ये रंज रहता है,
मेरे दिल में मेरे बचपन का
गौरीगंज रहता है..!!

Main apni galiyon se bichhda,
Mujhe ye ranj rahta hai,
Mere dil mein mere bachpan
ka Gauriganj rahta hai..!!

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari images

कल सूरज सर पे पिघलेगा
तो याद करोगे,
कि माँ से घना कोई दरख़्त नहीं था,
इस पछतावे के साथ कैसे जिओगे,
कि वो तुम से बात करना चाहती थी
और तुम्हारे पास वक़्त नहीं था.

Kal suraj sar pe pighlega
To yaad karoge,ki maa se
ghana ko darakht nahi tha,
Is pachhtave ke saath kaise
jioge ki wo tum se baat
karna chahti thi aur tumhare
paas waqt nahi tha.

वो शहर जहां बरसात में,
हम दोनो भीगें साथ में,
जहां आसमाँ हों जुड़े-जुड़े,
और दिल परिंदों सा उड़े,
जो झूठ-सच के पार है,
जहां प्यार है बस प्यार है,
मैं तुझे वहीं ले जाऊँगा,मेरे साथ चल.

Wo shahar jahan
barsat mein,Hum dono
bheegen saath mein,
Jahan aasman ho
jude-jude,Aur dil
parindo sa ude,Jo
jhooth sach ke
paar hai,jahan pyar hai
bas pyar hai,Main tujhe
wahin le jaunga,
Mere saath chal.

manoj muntashir shayari
manoj muntashir shayari images

वो हाथ कंधे से कैसे
जुड़ा हुआ है अभी,
दुपट्टा जिसने किसी
बहन का चुराया था…
ये मोमबत्तियाँ
मर्दानगी पे लानत हैं,
कि मर्द वो है जो
लंका जला के आया था

Wo haath kandhe se kaise
juda hai abhi,upatta jisne
kisi bahan ka churaya tha…
Ye mombattiyan mardangi
pe laanat hain,ki mard wo
hai jo Lanka jala ke aaya tha.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular