HomeWaseem Barelvi50 Best Waseem Barelvi Shayari | वसीम बरेलवी की बेहतरीन शायरी

50 Best Waseem Barelvi Shayari | वसीम बरेलवी की बेहतरीन शायरी

Waseem Barelvi Shayari: वसीम बरेलवी जी को उनके मशहूर गीत ,ग़ज़ल और शायरी के लिए जाना जाता है, दोस्तों यहाँ हम आप सभी के लिए Best Waseem Barelvi Shayari के चुनिंदा और मशहूर शायरी का संग्रह लेकर आये हैं जिसे आप अपने मित्रों और परिजनों के साथ सभी social media platforms पर शेयर कर सकते हैं आशा है, आप सबको ये संग्रह बेहद पसंद आएगा.

Waseem Barelvi Shayari

waseem barelvi shayari

अपने चेहरे से जो जाहिर है छुपायें कैसे,
तेरी मर्जी के मुताबिक़ नजर आयें कैसे.

Apne chehre se jo zahir hai chhupaen kaise,
teri marzi ke mutabiq nazar aayen kaise.



मैं इस उम्मीद पे डूबा कि तू बचा लेगा,
अब इसके बाद मेरा इम्तिहान क्या लेगा.

Main is ummeed me dooba ki tu bacha lega,
Ab iske baad mera imtihan kya lega.



ये गूँगों की महफ़िल है निकलना ही पड़ेगा,
क्या इतनी ख़ता कम है कि हम बोल पड़े हैं.

Ye goongo ki mahfil hai nikalna hi padega,
kya itni khata kam hai ki hum bol pade hain.

waseem barelvi shayari
waseem barelvi shayari image

अपने अंदाज़ का अकेला था
इस लिए मैं बड़ा अकेला था

Apne andaz ka akela tha
isliye main bada akela tha



ऐसे रिश्ते का भरम रखना कोई खेल नहीं,
तेरा होना भी नहीं और तिरा कहलाना भी.

Aise rishton ka bharam rakhna koi khel nahin,
tera hona bhi nahin aur tera kahlana bhi.



दूर से ही बस दरिया दरिया लगता है
डूब के देखो कितना प्यासा लगता है

Door se hi daria daria lagta hai
doob ke dekho kitna pyasa lagta hai

waseem barelvi shayari
best waseem barelvi shayari

हम अपने आप को इक मसला बना न सके
इसलिए तो किसी की नज़र में आ न सके

Hum apne aap ko ik msla na bana sake
isiliye toh kisi ki nazar mein aa na sake



उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए

Usi ko jeene ka haq hai jo iss zamane mein
idhar ka lagta rahe aur udhar ka ho jae



ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है,
समुंदरों ही के लहजे में बात करता है.

Zara sa qatra kahin aaj agar ubharta hai,
samundaro hi ke lahze mein baat karta hai

waseem barelvi shayari
waseem barelvi shayari image download

जहाँ रहेगा वहीं रौशनी लुटाएगा
किसी चराग़ का अपना मकाँ नहीं होता

Jahan rahega wahin Roshani lutaega
kisi charag ka apna makan nahin hota



शर्तें लगाई जाती नहीं दोस्ती के साथ,
कीजे मुझे क़ुबूल मिरी हर कमी के साथ.

Sharten lagai jati nahin dosti ke saath,
kije mujhe qubul miri har kami ke saath.



कहाँ सवालों के तुमसे जबाब मांगते हैं,
हम अपने आँखों के हिस्से के ख्वाब मांगते हैं.

Kahan sawalon ke tumse jawab mangte hain,
Hum apne aankhon ke hisse ke khwab mangte hain.

waseem barelvi shayari
popular waseem barelvi shayari

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है

Aasman itni bulandi pe jo itrata hai
bhool jata hai zameen se hi nazar aata hai



कौन सी बात कहाँ कैसे कही जाती है,
ये सलीक़ा हो तो, हर बात सुनी जाती है.

Kounsi baat kahan kaise kahi jati hai,
ye salika ho toh,har baat suni jati hai.



कोई इशारा दिलासा न कोई वादा मगर,
जब आई शाम तिरा इंतिज़ार करने लगे.

Koi ishara dilasa na koi vaada magar,
jab sham aai tira intizar karne lage.

waseem barelvi shayari
waseem barelvi shayari image

रात तो वक़्त की पाबंद है ढल जाएगी
देखना ये है चराग़ों का सफ़र कितना है

Raat toh waqt ki paband hai dhal jaegi
dekhna ye hai charagon ka safar kitna hai



मुझको गुनहगार कहे और सजा न दे,
इतना भी इख्तियार किसी को खुदा न दे.

Mujhko gunahgar kahe aur saza na de,
itna bhi ikhtiyar kisi ko khuda na de.



जमाना मुश्किलों में आ रहा हैं,
हमें आसान समझा जा रहा हैं.

Zamana mushqilon mein aa raha hai,
Humein aasan smjha ja raha hai.

waseem barelvi shayari
best waseem barelvi shayari

हमारे घर का पता पूछने से क्या हासिल
उदासियों की कोई शहरियत नहीं होती

Humare ghar ka pata puchhne se kya haasil
udasion ki koi shahariat nahin hoti



मैखाने के दर्द को किसने जाना हैं,
सबको अपनी-अपनी प्यास बुझाना हैं.

Maikhane ka dard kisne jana hai,
sabko apni-apni pyas bujhana hai.



दूरी हुई तो उनसे करीब और हुए,
ये कैसे फासलें थे जो बढ़ने से कम हुए.

Doori hui toh unse kareeb aur hue,
ye kaise faasle the jo badhne se kam hue.

waseem barelvi shayari
waseem barelvi shayari image download

इस दौरे-मुंसिफी में जरूरी नहीं वसीम
जिस शख्स की खता हो उसी को सजा मिले

Iss doure-munsifi mein zaruri nahin Waseem
jis shakhs ki khata ho usi ko saza mile



खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है
मैं वह कतरा हूं समंदर मेरे घर आता है

Khud ko manwane ka mujhko bhi hunar aata hai
main wah qatra hun samandar mere ghar aata hai



शाम तक सुबह की नज़रों से उतर जाते हैं,
इतने समझौतों पे जीते हैं कि, मर जाते हैं.

Sham tak subah ki nazaron se utar jate hain,
itne samjhouton pe jeete hainki,mar jate hain.

waseem barelvi shayari
waseem barelvi shayari image

तलब की राह में पाने से पहले खोना पड़ता है,
बड़े सौदे नज़र में हो तो, छोटा होना पड़ता है.

Talab ki raah mein paane se
pahle khona padta hai,
bade soude nazar mein ho toh,
chhota hona padta hai.



मुझ को चलने दो अकेला है अभी मेरा सफ़र
रास्ता रोका गया तो क़ाफ़िला हो जाऊँगा

Mujh ko chalne do akela hai
abhi mera safar
raasta roka gaya toh kafila ho jaunga



वैसे तो इक आँसू ही बहा कर मुझे ले जाए,
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता.

Vaise toh ik aansoo hi baha kar
mujhe le jaye,
Aise koi toofan hila bhi nahin sakta.

waseem barelvi shayari

सभी रिश्ते गुलाबों की तरह ख़ुशबू नहीं देते
कुछ ऐसे भी तो होते हैं जो काँटे छोड़ जाते हैं

Sabhi rishte gulabon ki tarah
khushbu nahin dete
kuchh aise bhi toh hote hain jo
kaanten chhod jate hai



मुझे पढ़ता कोई तो कैसे पढ़ता
मिरे चेहरे पे तुम लिक्खे हुए थे

Mujhe padhta koi toh kaise padhta
mire chehre pe tum likkhe hue the



तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों,
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है.

Tum aa gaye ho to kuchh
chandni si baaten ho
zameen pe chand kahan roz roz utarta hai

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular