HomeMirza GhalibBest Mirza Ghalib Shayari|2 line Heart Touching Shayari|मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

Best Mirza Ghalib Shayari|2 line Heart Touching Shayari|मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी

Mirza Ghalib Shayari

Mirza Ghalib Shayari:मिर्ज़ा ग़ालिब उर्दू और फारसी भाषा के के महान शायर और गायक थे. उन्हें उर्दू भाषा में आज तक का सबसे महान शायर माना जाता हैं. 

मिर्ज़ा ग़ालिब के द्वारा लिखी गयी शायरियाँ हिंदी और फारसी भाषा में भी मौजूद हैं. उर्दू शायरी में किसी शख्स का नाम सबसे ज्यादा लिया जाता हैं तो वह हैं मिर्ज़ा ग़ालिब. मिर्ज़ा ग़ालिब मुग़ल शासन के दौरान ग़ज़ल गायक, कवि और शायर हुआ करते थे.
मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरियाँ बेहद ही आसान और कुछ पंक्तियों में हुआ करती थी. जिसके कारण काफी लोकप्रिय हुई. यहाँ हम मिर्ज़ा ग़ालिब की कुछ चुनिंदा और मशहूर शायरी संग्रह पेश कर रहें है, उम्मीद है आप सब को बेहद पसंद आएगी

Mirza Ghalib Shayari In Hindi

Mirza Ghalib Shayari

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

Main nadaan tha jo wafa ko talash karta raha Ghalib
yah socha ke ek din apni bhi saans bewafa ho jayegi

कुछ लम्हे हमने खर्च किए थे मिले नहीं
सारा हिसाब जोड़ के सिरहाने रख लिया

Kuchh lamhe humne kharch kiye the mile nahi
Saara hisab jod ke sirhaane rakh liya

हम जो सबका दिल रखते हैं
सुनो,हम भी एक दिल रखते हैं

Hum jo sabka dil rakhte hain
Suno,hum bhi ek dil rakhte hain

गुज़र रहा हूँ यहाँ से भी गुज़र जाउँगा
मैं वक़्त हूँ कहीं ठहरा तो मर जाउँगा

Guzar raha hoon yahan se bhi guzar jaunga
Main waqt hoon kahin thahra to mar jaunga

Mirza Ghalib Shayari

Mirza Ghalib Shayari

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल के खुश रखने को ग़ालिब ये ख़याल अच्छा है

Hum ko maloom hai jannat ki haqiqat lekin,
Dil ke khush rakhne ko Ghalib ye khayal achha hai

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिये
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिये

Dard jab dil mein ho toh dawa keejiye
Dil hi jab dard ho toh kya keejiye

जान तुम पर निसार करता हूँ
मैं नहीं जानता दुआ क्या है

Jaan tum par nisaar karta hoon
main nahin jaanta dua kya hai

उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते है की बीमार का हाल अच्छा है

Un ke dekhe se jo aa jati hai muh par rounaq
Woh samjhte hain ki beemar ka haal achha hai

Mirza Ghalib Shayari Image

Mirza Ghalib Shayari
Mirza Ghalib Shayari

तुम न आए तो क्या सहर न हुई
हाँ मगर चैन से बसर न हुई
मेरा नाला सुना ज़माने ने मगर,
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई

Tum na aaye toh kya sahar na hui
Haan magar chain se basar na hui
Mera naala suna zamaane ne magar,
Ek tum ho jise khabar na hui

दिल-ए-नादान तुझे हुआ क्या है
आखिर इस दर्द की दवा क्या है

Dil-E-nadaan tujhe hua kya hai
Aakhir is dard ki dawa kya hai

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं कायल
जब आँख ही से न टपका तो लहू क्या है

Ragon mein doudate firne ke hum nahin kayal
Jab aankh hi se na tapka toh lahoo kya hai

इश्क़ पर जोर नहीं है, ये वो आतिश ‘ग़ालिब’
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने

Ishq par jor nahin hai,ye woh aatish’Ghalib’
Ki lagaye na lage aur bujhaye na bane

Mirza Ghalib Shayari

Mirza Ghalib Shayari

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई

Dil se teri nigaah jigar tak utar gayi
Dono ko ik adaa mein razamand kar gayi

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले
बहुत निकले मेरे अरमान फिर भी कम निकले

Hazaron khwahishen aisi ke har khwahish pe dum nikle
Bahut nikle mere armaan fir bhi kam nikle

RELATED ARTICLES

2 COMMENTS

  1. You are so interesting! I don’t suppose I’ve read
    through a single thing like this before. So good to find someone with a few genuine thoughts on this subject matter.
    Really.. many thanks for starting this up. This site is something that is needed on the internet, someone with a bit of originality!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular