Gulzar Famous Shayari Heart Touching Collection 1

Gulzar Famous Shayari

Gulzar Famous Shayari: Gulzar is a great poet, film maker, director, and script writer of the Hindi film industry.

He was born in Dina, Jhelum District in British India. He was served as Chancellor of Assam University. here we are sharing some of his top and best collection of shayari in both English and Hindi script, hope you all like this collection.

Gulzar Famous Shayari

बहुत मुश्क़िल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार
मुनाफा कम है पर गुज़ारा हो ही जाता है

bahut mushkil se karta hun teri yaadon ka karobar
Munafa kam hai par guzara ho hi jata hai


कोई पूछ रहा है मुझ से मेरी ज़िंदगी की कीमत
मुझे याद आ रहा है तेरा हलके से मुस्कुराना

Koi poochh raha hai mujh se meri zindgi ki keemat
Mujhe yaad aa raha hai tera halke se muskurana


वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर
आदत इसकी भी आदमी सी है

Waqt rahta nahin kahin tik kar
Aadat iski bhi aadmi si hai


कौन कहता है कि हम झूठ नहीं बोलते
एक बार खैरियत तो पूछ कर देखिये

Kaun kahta hai ki ham jhooth nahin bolte
Ek baar khairiyat to poochh kar dekhiye


ख़ुशबू जैसे लोग मिले अफ़साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

Khushbu jaise log mile afsane mein
Ek purana khat khola anjane mein


Gulzar Famous Shayari

Gulzar Famous Shayari

एक परवाह ही बताती है कि ख़याल कितना है
वरना कोई तराजू नहीं होता रिश्तों में

Ek parwah hi batati hai ki khyal kitna hai
Varna koi tarajoo nahin hota rishton mein


हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में
रुक कर अपना ही इंतज़ार किया

Hum ne aksar tumhari raahon mein
Ruk kar apna hi intzaar kiya


पलक से पानी गिरा है तो उसे गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही होगी

Palak se paani gira hai to usse girne do
koi purani tamanna pighal rahi hogi


हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख से लम्हे नहीं तोडा करते

Haath chhute bhi to rishte nahin chhoda karte
Waqt ki shaakh se lamhe nahin toda karte


शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Shaam se aankh mein nami si hai
Aaj fir aapki kami si hai


तुम्हारे ख़्वाब से हर शब् लिपट के सोते हैं
सज़ाएँ भेज दो हम ने ख़ताएँ भेजी हैं

Tumhare khwab se har shab lipat ke sote hain
sazayen bhej do hum ne khatayen bheji hain


लगता है ज़िंदगी आज कुछ ख़फ़ा है
चलिए छोड़िए कौन सी पहली दफ़ा है

Lagta hai zindgi aaj kuchh khafa hai
Chaliye chhodiye kaun si pahli dafa hai


इन्हे भी पढ़ें ( Also read this)

Ahmad Faraz Famous Shayari Best Collection 1


Gulzar Famous Shayari

Gulzar Famous Shayari

बहुत अंदर तक जला देती है
वो शिकायतें जो बयाँ नहीं होती

Bahut andar tak jala deti hai
Wo shikayten jo bayan nahin hoti


आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया

Aadatan tum ne kar diye vade
Aadatan hum ne aitbar kiya


एक ही ख्वाब ने सारी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की

Ek hi khwab ne saari raat jagaya hai
Maine har karvat sone ki koshish ki


तारीफ अपने आप की करना फ़िज़ूल है
खुशबू खुद बता देती है कौन सा फूल है

Tareef apne aap ki karna fizool hai
Khushboo khud bata deti hai kaun sa phool hai


थम के रह जाती है ज़िंदगी
जब जम के बरसती हैं पुरानी यादें

Tham ke rah jati hai zindagi
jab jam ke barsati hain purani yaaden


आप के बाद हर घडी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap ke baad har ghadi hum ne
Aapke saath hi guzaari hai


थोड़ा सा रफू करके देखिये ना
फिर से नयी सी लगेगी….ज़िन्दगी ही तो है

Thoda sa rafoo karke dekhiye na
Fir se nayi si lagegi..zindgi hi to hai

Leave a Reply