Tag: Top shayari of Gulzar

Gulzar famous Shayari Collection 1

Gulzar famous Shayari Collection 1

Gulzar famous Shayari

खुशबु जैसे लोग मिले अफ़साने में
एक पुराना ख़त खोला अनजाने में

Khusbu jaise log mile afsane mein
Ek purana khat khola anjaane mein


बहोत अंदर तक जला देती है
वो शिकायतें जो बयाँ नहीं होती

Bahot andar tak jala deti hai
Wo shikayaten jo bayan nahin hoti


एक ही ख़्वाब ने सारी रात जगाया है
मैंने हर करवट सोने की कोशिश की

Ek hi khwab ne saari raat jagaya hai
Maine har karvat sone ki koshish ki


अपने साये से चौंक जाते है
उम्र गुजरी है इस क़दर तनहा

Apne saaye se chounk jate hai
Umar gujri hai is qadar tanha


पलक से पानी गिरा है,तो गिरने दो
कोई पुरानी तमन्ना पिघल रही होगी

Palak se paani gira hai,to girne do
Koi purani tamanna pighal rahi hogi


आज हर ख़ामोशी को मिटा देने का मन है
जो भी छुपा रखा है मन में,लुटा देने का मन है

Aaj har khamoshi ko mita dene ka mann hai
Jo bhi chhupa rakha hai mann mein,luta dene ka mann hai


उसी का ईमाँ बदल गया है
कभी जो मेरा खुदा रहा था

Usi ka imaan badal gaya hai
Kabhi jo mera khuda raha tha


इन्हे भी पढ़ें (Also read This)
Ahmad Faraz

Gulzar famous Shayari

बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार
मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है

Bahut mushqil se karta hoon teri yaadon ka karobar
Guzara kam hai,par munafa ho hi jata hai


जब भी ये दिल उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है

Jab bhi ye dil udas hota hai
Jane koun aas-paas hota hai


सुनो….  जरा रास्ता तो बताना
मोहब्बत के सफर से वापसी है मेरी

Suno…… jara raasta to batana
Mohabbat ke safar se wapasi hai meri


कल का हर वाक़िआ तुम्हारा था
आज की दास्ताँ हमारी है

Kal ka har waqia tumhara tha
Aaj ki daastan hamari hai


आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ऐतबार किया

Aadatan tum ne kar diye vade
Aadatan ham ne aitbar kiya


Gulzar famous Shayari

थम के रह जाती है ज़िंदगी
जब जम के बरसती है पुरानी यादें

Tham ke rah jati hai zindagi
Jab jam ke barasti hai purani yaaden


वक़्त रहता नहीं कहीं थम कर
इसकी आदत भी आदमी सी है

Waqt rahta nahin kahin tham kar
Iski aadat bhi aadmi si hai


यादों की अलमारी में देखा
वहां मुहब्बत फटेहाल लटक रही है

Yaadon ki almari mein dekha
Wahan muhabbat fatehal latak rahi hai


लगता है आज ज़िंदगी कुछ खफा है
चलिए छोड़िये कौन सी पहली दफा है

Lagta hai aaj zindagi kuchh khafa hai
Chali chhodiye koun si pahli dafa hai


तारीफ़ अपने आप की करना फ़िज़ूल है
खुशबु खुद बता देती है कौन सा फूल है

Tareef apne aap ki karna fizool hai
Khushbu khud bata deti hai koun sa phool hai


हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में रुक कर
अपना ही इंतज़ार किया

Ham ne aksar tumhari raahon mein ruk kar
Apna hi intzar kiya


शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Sham se aankh mein nami si hai
Aaj fir aap ki kami si hai

shayari store 2018